Skip to main content

Sheetla Mata Katha in Hindi, Sheetla Mata Katha Video

Sheetla Mata Katha in Hindi, Sheetla Mata Katha Video

Sheetala Mata is a famous Hindu goddess. Since ancient times, Sheetala Mata is highly regarded. Skanda Purana mentions the vehicle of Sheetla Devi as a donkey. Shitala devi holds a kalash, soup, a broom and neem leaves in her hands. Goddess Shitala is believed to be the goddess who cures many diseases like the chicken pox.. These things carried by Mata Sheetla have a symbolic significance.
The patient of the smallpox removes clothing in anxiety. Soup is aired to the patient, the boils burst from the broom. Neem leaves do not allow the blisters to rot. The patient feels the need for the cold water, and that is why a vase is important, held by mata Shitala. Chicken pox stains are eradicated from the donkey's lid. Sheetla Mata has been shown to be seated on a donkey in any of idols in temples.

Shitala Mata is accompanied by Jwarasur, the fever demon, goddess of cholera, gods of skin and blood related diseases and other gods and goddesses of 64 diseases. Sheetla Mata's vase has soft, healthy and germicidal water.

In Skanda Purana, Sheetla Mata's worship is beautifully mentioned in the Sheetla Ashtakam. It is believed that this Sheetla Ashtakam stotra was composed by Lord Shankar for the benefit of people. Sheetla Ashtakam praises Mata Shitala and also inspires devotees to worship her.

शीतला माता एक प्रसिद्ध हिन्दू देवी हैं। इनका प्राचीनकाल से ही बहुत अधिक माहात्म्य रहा है। स्कंद पुराण में शीतला देवी का वाहन गर्दभ बताया गया है। ये हाथों में कलश, सूप, मार्जन (झाडू) तथा नीम के पत्ते धारण करती हैं। इन्हें चेचक आदि कई रोगों की देवी बताया गया है। इन बातों का प्रतीकात्मक महत्व होता है। चेचक का रोगी व्यग्रता में वस्त्र उतार देता है। सूप से रोगी को हवा की जाती है, झाडू से चेचक के फोड़े फट जाते हैं। नीम के पत्ते फोडों को सड़ने नहीं देते। रोगी को ठंडा जल प्रिय होता है अत: कलश का महत्व है। गर्दभ की लीद के लेपन से चेचक के दाग मिट जाते हैं। शीतला-मंदिरों में प्राय: माता शीतला को गर्दभ पर ही आसीन दिखाया गया है। शीतला माता के संग ज्वरासुर- ज्वर का दैत्य, ओलै चंडी बीबी - हैजे की देवी, चौंसठ रोग, घेंटुकर्ण- त्वचा-रोग के देवता एवं रक्तवती - रक्त संक्रमण की देवी होते हैं। इनके कलश में दाल के दानों के रूप में विषाणु या शीतल स्वास्थ्यवर्धक एवं रोगाणु नाशक जल होता है।स्कन्द पुराण में इनकी अर्चना का स्तोत्र शीतलाष्टक के रूप में प्राप्त होता है। ऐसा माना जाता है कि इस स्तोत्र की रचना भगवान शंकर ने लोकहित में की थी। शीतलाष्टक शीतला देवी की महिमा गान करता है, साथ ही उनकी उपासना के लिए भक्तों को प्रेरित भी करता है।

Sheetla Mata Mantra 

शास्त्रों में भगवती शीतला की वंदना के लिए यह मंत्र बताया गया है:

वन्देऽहंशीतलांदेवीं रासभस्थांदिगम्बराम्।।
मार्जनीकलशोपेतां सूर्पालंकृतमस्तकाम्।।

अर्थ है दिगम्बरा, गर्दभ वाहन पर विराजित, शूप, झाड़ू और नीम के पत्तों से सजी-संवरी और हाथों में जल कलश धारण करने वाली माता को प्रणाम हैं।

Sheetla Shasti Vrat katha (शीतला षष्ठी व्रत कथा)

शीतला माता महात्मय (Sheetla Mata Mahatmya)


चैत्र कृष्ण षष्ठी तिथि का व्रत शीतला माता के नाम से किया जाता है। इस व्रत का पालन आमतर पर महिलाएं करती हैं। शीतला माता के व्रत का महात्मय है कि जो भी व्रत रखकर इनकी पूजा करता है वह दैहिक और दैविक ताप से मुक्त हो जाता है। यह व्रत पुत्र प्रदान करने वाला एवं सभाग्य देने वाला है। पुत्री की इच्छा रखने वाली महिलाओं के लिए यह व्रत उत्तम कहा गया है।

शीतला माता व्रत कथा (Sheetla Mata Vrat Katha)


Here, we have mentioned Sheetla Mata Katha in Hindi. You can also watch Sheetla Mata Katha Video below. This Sheetla Mata story is a must listen. Sheetla Ashtami occurs after 6 days of Holi festival.

कथा के अनुसार एक साहूकार था जिसके सात पुत्र थे। साहूकार ने समय के अनुसार सातों पुत्रों की शादी कर दी परंतु कई वर्ष बीत जाने के बाद भी सातो पुत्रों में से किसी के घर संतान का जन्म नहीं हुआ। पुत्र वधूओं की सूनी गोद को देखकर साहूकार की पत्नी बहुत दु:खी रहती थी। एक दिन एक वृद्ध स्त्री साहूकार के घर से गुजर रही थी और साहूकार की पत्नी को दु:खी देखकर उसने दु:ख का कारण पूछा। साहूकार की पत्नी ने उस वृद्ध स्त्री को अपने मन की बात बताई। इस पर उस वृद्ध स्त्री ने कहा कि आप अपने सातों पुत्र वधूओं के साथ मिलकर शीतला माता का व्रत और पूजन कीजिए, इससे माता शीतला प्रसन्न हो जाएंगी और आपकी सातों पुत्र वधूओं की गोद हरी हो जाएगी।

साहूकार की पत्नी तब चैत्र मास की कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि (Chaitra Krishna Shasti tithi) को अपनी सातों बहूओं के साथ मिलकर उस वृद्धा के बताये विधान के अनुसार माता शीतला का व्रत किया। माता शीतला की कृपा से सातों बहूएं गर्भवती हुई और समय आने पर सभी के सुन्दर पुत्र हुए। समय का चक्र चलता रहा और चैत्र कृष्ण षष्ठी तिथि आई लेकिन किसी को माता शीतला के व्रत का ध्यान नहीं आया। इस दिन सास और बहूओं ने गर्म पानी से स्नान किया और गरमा गरम भोजन किया। माता शीतला इससे कुपित हो गईं और साहूकार की पत्नी के स्वप्न में आकर बोलीं कि तुमने मेरे व्रत का पालन नहीं किया है इसलिए तुम्हारे पति का स्वर्गवास हो गया है। स्वप्न देखकर साहूकार की पत्नी पागल हो गयी और भटकते भटकते घने वन में चली गईं।

वन में साहूकार की पत्नी ने देखा कि जिस वृद्धा ने उसे शीतला माता का व्रत करने के लिए कहा था वह अग्नि में जल रही है। उसे देखकर साहूकार की पत्नी चौंक पड़ी और उसे एहसास हो गया कि यह शीतला माता है। अपनी भूल के लिए वह माता से विनती करने लगी, माता ने तब उसे कहा कि तुम मेरे शरीर पर दही का लेपन करो इससे तुम्हारे Šৠपर जो दैविक ताप है वह समाप्त हो जाएगा। साहूकार की पत्नी ने तब शीतला माता के शरीर पर दही का लेपन किया इससे उसका पागलपन ठीक हो गया व साहूकार के प्राण भी लट आये।

शीतला माता व्रत विधि (Sheetla Mata Vrat Vidhi)

कथा में माता शीतला के व्रत की विधि का जैसा उल्लेख आया है उसके अनुसार अनुसार शीतला षष्ठी के दिन स्नान ध्यान करके शीतला माता की पूजा करनी चाहिए (Sheetla Shasti)। इस दिन कोई भी गरम चीज़ सेवन नहीं करना चाहिए। शीतला माता के व्रत के दिन ठंढ़े पानी से स्नान करना चाहिए। ठंढ़ा ठंढ़ा भोजन करना चाहिए। उत्तर भारत के कई हिस्सों में इसे बसयरा (Basyorra) भी कहते हैं। इसे बसयरा इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस दिन लोग रात में बना बासी खाना पूरे दिन खाते हैं। शीतला षष्ठी के दिन लोग चुल्हा नहीं जलाते हैं बल्कि चुल्हे की पूजा करते हैं। इस दिन भगवान को भी रात में बना बासी खाना प्रसाद रूप में अर्पण किया जाता है। इस तिथि को घर के दरबाजे, खिड़कियों एवं चुल्हे को दही, चावल और बेसन से बनी हुई बड़ी मिलाकर भेंट किया जाता है।

इस तिथि को व्रत करने से जहां तन मन शीतल रहता है वहीं चेचक से आप मुक्त रहते हैं। शीतला षष्ठी (Sheetla Sasti) के दिन देश के कई भागो में मिट्टी पानी का खेल उसी प्रकार खेला जाता है जैसे होली में रंगों से।

Popular posts from this blog

Durga Kavach in Hindi, श्री दुर्गा कवच

Durga kavach in Hindi  श्री दुर्गा कवच Durga Kavach In Hindi Text by Chaman is given below. Durga Kavach In Hindi Pdf link is available at the bottom of this page. If you are looking for Durga Kavach In Hindi Mp3 download, you can do so by clicking the link. This Durga Kawach Paath In Hindi is beneficial for the readers as well as the listeners, Durga Kavach 2017 In Hindi Mp3 file is sung by Anuradha Paudwal, Chaman and Narender Chanchal. Durga Kavach lyrics can be printed on paper when you download the Durga Kavach in Hindi document link given at the last. Jai Maa Durga. Click on the arrow at the left of the Screen ( < )below to see the full view. If you wish to download Durga Kavach in Hindi, Click on the link given at the last. Durga Kavach in Hindi PDF Free Download

मां दुर्गा के 108 नाम, Durga 108 Names in Hindi English

दुर्गा माता के 108 नाम, Durga 108 Names in Hindi English हिंदी English Meaning in English सति Sati One who got burned alive साध्वी Saadhvi The Sanguine भवप्रीता Bhavaprita One who is loved by the universe भवानी Bhavaani The abode of the universe भवमोचिनी Bhavamochani The absolver of the universe आर्य Aarya Goddess दुर्गा Durga The Invincible जया Jaya The Victorious अद्या Aadya The Initial reality त्रिनेत्रा Trinetra One who has three-eyes शूलधारिणी Shooldharini One who holds a monodent पिनाकधारिणी Pinaakadharini One who holds the trident of Shiva चित्रा Chitra The Picturesque चंद्रघंटा Chandraghanta One who has mighty bells महातपा Mahatapa With severe penance मन: Manah Mind बुद्धि Buddhi Intelligence अहंकारा Ahankaara One with Pride चित्तरूपा Chittarupa One who is in thought-state चिता: Chita Death-bed चिति Chiti The thinking mind सर्वमन्त्रमयी Sarvamantramayi One who possess all the instruments of thought सत्ता Satta One who is above all स्त्यानन्दस्वरूपिन

नवरात्रि पर्व, Navratri Poems 2017

नवरात्रि पर्व, Navratri Poems 2017 The Indians consider  Navratras as a major festival  and preparations for the festival start days, even months ahead.   Navratri wishes  keep on pouring from different parts of the country and also from across the world. Poems are composed in the praise of this auspicious occasion and also describing the prowess of the deity Durga and Her role in eradicating all evils from this role. Children compose poems in Hindi and English describing the merriment of the celebrations. The  Navratri poem quotes  are also used to convey the Happy Navratre wishes to near and dear ones.  Navratri poems  can also e offered to the Goddess praising Her and asking for Her blessings.   Navratri Poems in Hindi Navratri ki is shubh avasr per, Maa Tujhe Naman hum karte hain. Jhum Jhum kar Nach Nach Kar, Tera Abhinandan karte hain. Kali Ka roop dhar kar tu, Ahnkaar Mitati hai. Vasanao say ghire man ko Ma, tu nijaat dilati hai. Laxmi ka roop dekh kar, Mugdh main

Navratri 2017

Navratri 2017, Navratri 2017 Dates Chaitra Vasant Navratri in March 2017 are from 28th March to 05th April (Tuesday to Next  Wednesday ). Sharad Navratri in September 2017 are from 21st September to 30th September (Thursday to Next Satur day ) Nine Nights of Navratri festival 2017 The festival of Navratri (nav means nine and ratri means nights, meaning nine nights) lasting for 9 days is the most important holy festival in Hindu religion when the goddess, or the cosmic energy, is the most vibrant. The  nine days of Navratri  brings the prosperity and joy in everybody’s life. The  festival of Navratri  or nine nights is dedicated to goddess Durga and her nine forms which are worshipped.During the nine auspicious days of Navratri, Hindu devotees offer ardent prayers to Skahti maata or Devi Durga asking for her blessings.  Navratri pooja  is performed in all households in the utmost ritualistic manner. Worshippers throng the Puja Pandals or the Puja mandaps with their well de

Durga Kavach in Sanskrit, Durga Kavach Text Download

Durga Kavach In Sanskrit - श्री दुर्गा कवच Om Sarvamangal Maangalya Shive Sarvaarth Saadhike Sharanyetra Ambike Gauri Narayani Namostute  Kavach Praarambhah-  श्री दुर्गा कवच Om Namashchandikaaye Maarkandeya Uvaach. Om Yadguhyam Parmam Loke Sarva Rakshaakaram Nrinaam Yann Kasya Chidaakhyaatam Tanme Broohi Pitamah Brahmovaach. Asti Guhyatamam Vipra Sarva Bhootopkaarkam  Divyaastu Kavacham Punyam Tachhrinushva Mahaamune Prathamam Shailputri cha Dwitiyam Brahmacharini Tritiyam Chandraghanteti Kushmaandeti Chaturthakam  Panchamam Skandmaateti Shashtham Kaatyayneeti cha Saptamam Kaalraatriti Mahagauriti Chaastamam Navamam Sidhhidaatri cha Navdurgaah Prakeertitaah Uttaanyetaani Naamaani Brahmanaiv Mahaatmana Agninaa Dahyamaanastu Shatru Madhye Gato Rane Vishme Durgame Chaiv Bhayaartaah Sharanam Gataah Na Teshaam Jaayate Kinchidashubham Ransankate Naapadam Tasya Pashyaami Shokdukh Bhayam Na hi Yaistu Bhaktya Smritaa Noonam Te